Ration Card Payment Recovery घर में है ये 7 चीजे तो न बनवाए राशन कार्ड वर्ना होगी वसूली

Ration Card Payment Recovery घर में है ये 7 चीजे तो न बनवाए राशन कार्ड वर्ना होगी वसूली

यूपी सरकार से कार्रवाई व वसूली के डर से अपात्र राशन कार्डधारी अपने कार्ड सरेंडर कर रहे हैं। 24 मई तक कार्ड सरेंडर नहीं करने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

प्रशासन की सख्ती और ठीक होने का डर अब राशन कार्ड धारकों पर साफ दिखाई दे रहा है। इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि अब तक 6300 राशन कार्ड धारकों ने अपने राशन कार्ड सरेंडर कर दिए हैं। इस बीच सरकार ने अपात्र राशन कार्ड धारकों को एक और मौका देते हुए सरेंडर करने की अंतिम तिथि 24 मई तक बढ़ा दी है। अब तक सरेंडर करने की आखिरी तारीख 19 मई थी। अपात्र राशन कार्ड धारकों के राशन कार्ड सरेंडर करने के माहौल का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि सरेंडर करने के लिए संबंधित आपूर्ति निरीक्षक के कार्यालय में भीड़ जमा हो रही है।

अब सरकार खाद्यान्न का लाभ उठा रहे अपात्र राशन कार्ड धारकों पर नकेल कस रही है। हाल ही में सरकार ने निर्देश दिया था कि ऐसे राशन कार्ड धारक जो अपात्र होने के बावजूद राशन कार्ड धारकों के माध्यम से खाद्यान्न का लाभ उठा रहे हैं, वे अपना राशन कार्ड सरेंडर कर दें। ऐसा नहीं करने पर जांच के बाद अपात्र पाए जाने पर वसूली की जाएगी।

शासन के निर्देश पर प्रशासन द्वारा बरती जा रही सख्ती के चलते अपात्र राशन कार्ड धारकों ने अपने राशन कार्ड सरेंडर करने शुरू कर दिए हैं। अब तक छह हजार से अधिक राशन कार्डधारकों के राशन कार्ड वापस कर दिए गए हैं। जिला आपूर्ति कार्यालय के गौरव ने बताया कि अब तक राशन कार्ड संबंधित तहसील के मुक्त आपूर्ति निरीक्षक कार्यालय में सरेंडर किया जा चुका है.

इसमें टांडा तहसील में 1800, अकबरपुर में 1200, जलालपुर में दो हजार, अलापुर में 700 और भिती में 600 राशन कार्ड सरेंडर किए जा चुके हैं. अभी तक राशन कार्ड सरेंडर करने की आखिरी तारीख 19 मई थी, लेकिन अब इसे बढ़ाकर 24 मई कर दिया गया है।

आत्मसमर्पण करने के लिए जुटे लोग

राशन कार्ड सरेंडर करने के लिए संबंधित तहसील परिसर स्थित आपूर्ति निरीक्षक के कार्यालय में लोगों की लंबी भीड़ लगी हुई है. दरअसल, राशन कार्ड धारकों पर रिकवरी का डर साफ दिखाई दे रहा है। इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि राशन कार्ड सरेंडर करने के लिए लोग सुबह से ही संबंधित आपूर्ति निरीक्षक के कार्यालय में लाइन में खड़े हैं. इसके लिए भीषण गर्मी भी उन्हें कार्ड सरेंडर करने से नहीं रोक पा रही है। अकबरपुर में सरेंडर करने के बाद अमर उजाला टीम के संदीप और अमजद ने कहा कि उन्होंने अच्छे नागरिक होने का परिचय देते हुए राशन कार्ड सरेंडर कर दिया है. कहा कि सरकार द्वारा निर्धारित मानक के अनुसार उन्होंने राशन कार्ड सरेंडर कर दिया है.

सरेंडर की बढ़ी हुई तारीख

जिला आपूर्ति अधिकारी राकेश कुमार का कहना है कि जिले में लोग तेजी से राशन कार्ड सरेंडर कर रहे हैं. कार्ड सरेंडर करने की आखिरी तारीख 19 मई थी, जिसे बढ़ाकर 24 मई कर दिया गया है। ऐसे में अपात्र राशन कार्ड धारकों को किसी भी तरह की कार्रवाई से बचने के लिए राशन कार्ड सरेंडर कर देना चाहिए।

Ration Card Latest Update : सरकार को पता चला है कि मुफ्त राशन और सस्ते राशन योजना का लाभ सभी अपात्र लोग ले रहे हैं। इसको लेकर शासन की ओर से व्यापक अभियान चलाने की तैयारी की जा रही है। सबसे पहले अपात्र कार्डधारकों को कार्ड सरेंडर करने का मौका दिया जाएगा। कार्ड सरेंडर नहीं करने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी

दुकान के बाहर लगेगी लाभार्थियों के नाम की लिस्ट

उत्तराखंड में खाद्य विभाग के ‘पात्र बनने योग्य’ अभियान के तहत हजारों राशन कार्ड सरेंडर किए जा चुके हैं। राज्य की खाद्य मंत्री रेखा आर्य ने भी अभियान की समीक्षा की। उन्होंने कहा कि हर राशन की दुकान के बाहर लाभार्थियों के नामों की सूची लगाई जाए. आर्य ने बताया कि जिस ग्राम सभा या मोहल्ले से अपात्रों का राशन कार्ड सरेंडर किया जाएगा, उसी क्षेत्र से पात्र व्यक्ति का राशन कार्ड बनेगा।

उत्तराखंड में खाद्य विभाग के ‘पात्र बनने योग्य’ अभियान के तहत हजारों राशन कार्ड सरेंडर किए जा चुके हैं। राज्य की खाद्य मंत्री रेखा आर्य ने भी अभियान की समीक्षा की। उन्होंने कहा कि हर राशन की दुकान के बाहर लाभार्थियों के नामों की सूची लगाई जाए. आर्य ने बताया कि जिस ग्राम सभा या मोहल्ले से अपात्रों का राशन कार्ड सरेंडर किया जाएगा, उसी क्षेत्र से पात्र व्यक्ति का राशन कार्ड बनेगा।

31 मई तक कार्ड सरेंडर करने की चेतावनी

आर्य ने बताया कि 15,000 रुपये प्रति माह से अधिक आय वाले अंत्योदय और राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना के पात्र नहीं हैं। ऐसे लोग 31 मई तक कार्ड सरेंडर कर सकते हैं। ऐसा न करने पर 1 जून से अपात्र कार्डधारकों के खिलाफ अभियान चलाया जाएगा और अपात्रों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की जाएगी। साथ ही ऐसे लोगों से रिकवरी भी होगी।

लोगों ने कार्ड सरेंडर करने शुरू क‍िए

वहीं दूसरी ओर उत्तर प्रदेश में भी अपात्र लोगों को राशन कार्ड सरेंडर करने को कहा गया है. अभियान के तहत अपात्र कार्डधारकों के खिलाफ कार्रवाई कर उनसे वसूली की जाएगी। सीएम योगी की ओर से राज्य के हर जिला प्रशासन को अपात्र कार्ड धारकों के खिलाफ कार्रवाई करने को कहा गया है. इस आदेश के बाद अलग-अलग जिलों में लोग राशन कार्ड सरेंडर कर रहे हैं.

यह नियम है

अगर कोई अपात्र राशन कार्ड सरेंडर नहीं करता है तो जांच के बाद उसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी। शासन के नियमानुसार 100 वर्ग मीटर से अधिक का प्लॉट, फ्लैट हो या मकान, चौपहिया वाहन या ट्रैक्टर, गांव में दो लाख और शहर में तीन लाख से अधिक का राशन कार्ड तहसील या डीएसओ कार्यालय को सरेंडर कर सकता है.

अगर आप भी राशन कार्ड धारक पर मुफ्त राशन लेते हैं तो यह खबर आपको जरूर पढ़नी चाहिए। उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में राज्य सरकारें लगातार अपात्र लोगों से अपने राशन कार्ड सरेंडर करने के लिए कह रही हैं। सरकार का कहना है कि सभी लोग सरकार की मुफ्त या सस्ती राशन योजना के लिए पात्र नहीं हैं, ऐसे लोगों को तुरंत अपना राशन कार्ड सरेंडर कर देना चाहिए।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *